कैफी आज़मी के जीवन की ये बातें शायद ही कोई जानता हो, Kaifi Azmi Secret Story

कैफी आज़मी Kaifi Azmi के Birthday पर उनकी Secret Story

कैफी आज़मी Kaifi Azmi : प्रसिद्ध भारतीय कवि और उर्दू साहित्य के पुरोधा कहे जाने वाले सैयद अतहर हुसैन रिजवी यानी कि कैफी आज़मी Kaifi Azmi कि आज 101 वी जयंती है। इसके लिए गूगल ने उनका डूडल भी बनाया है। गूगल ने आज अपना डूबल कैफी आज़मी Kaifi Azmi के नाम किया है। और अपने डूडल के जरिए उन्हें याद किया है। दरअसल गूगल जब समाज में अपना योगदान देने वाले लोगों को याद करता है। तो वह अपने मुख पेज पर उनका डूडल बना दिया करता है। हिंदी फिल्म जगत के मशहूर शायर और गीतकार कैफी आज़मी Kaifi Azmi की शेरो शायरी की प्रतिभा बचपन के दिनों से ही दिखाई देने लगी थी। प्रेम की कविताओं से लेकर बॉलीवुड गीतों और पटकथा लिखने में माहिर कैफी आज़मी Kaifi Azmi बीसवीं सदी के सबसे बड़े और प्रसिद्ध कवियों में से एक रहे हैं।

Kaifi Azmi कैफ़ी आज़मी
Kaifi Azmi कैफ़ी आज़मी

यूपी के आजमगढ़ जिले के मिजवां गांव में में इनका जन्म हुआ था। 14 जनवरी यानी आज के ही दिन 1919 को पैदा हुए थे। यह कैफ़ी आज़मी Kaifi Azmi के नाम से इतने प्रसिद्ध हुए कि लोग इनका असली नाम जो कि सैयद हुसैन रिजवी है, भी भूल गए कैफी आज़मी Kaifi Azmi ने अपनी पहली कविता मात्र 11 साल की उम्र में लिखी थी। उस वक्त कैफी आज़मी 1942 में हुए महात्मा गांधी के भारत छोड़ो आंदोलन से प्रेरित थे। और बाद में वह एक उर्दू अखबार में अपनी कलम की ताकत दिखाने के लिए मुंबई चले गए। कैफी आजमी Kaifi Azmi को फिल्म इंडस्ट्री में उर्दू साहित्य को बढ़ावा देने के लिए भी जाना जाता है। यही नहीं पाकीजा के साउंडट्रेक चलते चलते और अर्थ से कोई एक ऐसी बात बताएं, ए दुनिया दुनिया ए महफिल और उनकी अपनी कविता औरत जैसी प्रसिद्ध रचनाएं उर्दू भाषा और हिंदी भाषा में उल्लेखनीय योगदान के रूप में याद की जाती है।
उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ जिले में जन्मे सैयद अतहर हुसैन उर्फ कैफी आज़मी Kaifi Azmi के पिता एक जमींदार थे। पिता हुसैन उन्हें ऊंची से ऊंची तालीम देना चाहते थे। और इसी उद्देश्य उन्होंने उनका दाखिला लखनऊ के प्रसिद्ध सेमिनरी सुल्तान कराया था अभी आदमी के अंदर बचपन से ही जिंदा था। 11 साल की उम्र से ही कैफी आजमी Kaifi Azmi ने मुशायरा में हिस्सा लेना शुरू कर दिया था। जहां उन्हें काफी दाद भी मिला करती थी। 1942 में कैफी आज़मी Kaifi Azmi उर्दू और फारसी की उच्च शिक्षा के लिए लखनऊ और इलाहाबाद भेजे गए, लेकिन कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया की सदस्यता ग्रहण करके पार्टी कार्यकर्ता के रूप में काम करना शुरू कर दिया, और महात्मा गांधी के भारत छोड़ो आंदोलन में शामिल हो गए।
आपको बता दें कि कैफी आज़मी Kaifi Azmi को कई पुरस्कारों से नवाजा जा चुका है। उन्हें अब तक तीन फिल्मफेयर अवार्ड और शिक्षा के लिए प्रतिष्ठित पद्म श्री पुरस्कार भी मिल चुका है।

 

Top 100 Songs of Kaifi Azmi

National Youth Day 2020 पर Swami Vivekananda के 25 Quotes हिन्दी में

 

👇 अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलें 👇

Share on facebook
Share on google
Share on twitter
Share on whatsapp

ये खबर आपको कैसी लगी? नीचे कॉमेंट बॉक्स में जाकर जरूर बताएं.

झांसी समाचार

ललितपुर समाचार