Indian Army Day wishesh

Indian Army Day दिवस क्यों मनाया जाता है? भारतीय थल सेना के कुछ रोचक तथ्य

आज इंडियन आर्मी डे Indian Army Day , यानी भारतीय थल सेना दिवस Indian Army Day  है। फील्ड मार्शल के एम करिअप्पा के सम्मान में हर साल भारत में 15 जनवरी को थल सेना दिवस Indian Army Day मनाया जाता है। करिअप्पा, भारतीय सेना Indian Army के पहले commander-in-chief थे। उन्होंने 15 जनवरी 1949 में सर फ्रेंडशिप बूचर से चार्ज लिया था। आपको बता दें कि करियप्पा ने 1947 में भारत-पाक के बीच हुए युद्ध में भारतीय सेना की कमान भी संभाली थी। भारत में युद्ध में पाकिस्तान को धूल चटा दी थी।

Indian Army Day भारतीय थल सेना दिवस
Indian Army Day भारतीय थल सेना दिवस

सेना दिवस Army Day के अवसर पर पूरा देश थल सेना Indian Army की वीरता अदम्य साहस और शौर्य की कुर्बानी की दास्तां को बयान करता है। जगह-जगह कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। दिल्ली में सेना कमान मुख्यालय के साथ-साथ देश के कोने कोने में शक्ति प्रदर्शन के अन्य कार्यक्रमों का भी आयोजन किया जाता है। वहीं दूसरी तरफ लोग सोशल मीडिया से भी एक दूसरे को इसका मैसेज भी भेजते हैं। इस बार आप अपने दोस्तों को सोशल मीडिया पर कैसे मैसेज भेजें? यह तो हम आपको बताएंगे ही, लेकिन इसके पहले आप भारतीय थल सेना दिवस Indian Army Day के बारे में कुछ मुख्य बातें जरूर जान लें।

फील्ड मार्शल केएम करिअप्पा से जुड़ी कुछ बातें

आपको बता दें कि फील्ड मार्शल केएम करिअप्पा को 14 जनवरी 1986 को फील्ड मार्शल के खिताब से नवाजा गया था। हालांकि यह खिताब पाने वाले यह दूसरे शख्स थे। इसके पहले 1973 में भारत की पहली फील्ड मार्शल बनने का सम्मान सम्मान को प्राप्त है। बता दें कि इंडियन आर्मी Indian Army का गठन ईस्ट इंडिया कंपनी ने कोलकाता में किया था। भारतीय सेना Indian Army की पूरे विश्व में एक अलग ही पहचान है। आपको यह भी बता दें कि 1999 में कर्नाटक की जन्म लेने वाले केएम करिअप्पा सिर्फ 20 साल की उम्र में इंडियन आर्मी में नौकरी शुरू की थी। भारतीयों के दिलों में वह सदा अमर रहेंगे । आपको यह भी बता दें कि भारतीय सेना Indian Army में फील्ड मार्शल का पद सर्वोच्च होता है। यह पद सम्मान स्वरूप दिया जाता है। भारतीय इतिहास में अभी तक सिर्फ दो अधिकारियों को दिया गया है। इनमें से एक फील्ड मार्शल करिअप्पा हैं.

Indian Army Day 2020
Indian Army Day 2020

Indian Army Day भारतीय थल सेना दिवस से जुड़े रोचक तथ्य

बुधवार यानी आज भारत 72 वां भारतीय थल सेना दिवस Indian Army Day मना रहा है। साल 1949 में आज के ही दिन भारत के अंतिम ब्रिटिश कमांडर इन चीफ जनरल जनरल फ्रांसिस बुचर के स्थान पर तत्कालीन लेफ्टिनेंट जनरल के एम करियप्पा ने भारतीय सेना Indian Army के कमांडर इन चीफ का चार्ज लिया था। करिअप्पा बाद में फील्ड मार्शल भी बने।

Indian Army Day 3
Indian Army Day 3
  • भारतीय सेना Indian Army का गठन 1776 में ईस्ट इंडिया कंपनी ने कोलकाता में किया था। भारतीय सेना Indian Army की 53 छावनियां और 9 आर्मी बेस है।
  • सेना दिवस Indian Army Day के मौके पर भारतीय सेना के कई दस्ते और रेजीमेंट परेड में हिस्सा लेते हैं। इसके साथ कई झांकियां भी निकाली जाती हैं। भारतीय थल सेना दिवस Indian Army Day को हर साल 15 जनवरी के दिन बड़ी धूमधाम के साथ मनाया जाता है।
  • के एम करिअप्पा पहले ऐसे अधिकारी थे जिन्हें फील्ड मार्शल की उपाधि दी गई थी। उन्होंने साल 1947 में भारत-पाक युद्ध में भारतीय सेना Indian Army का नेतृत्व किया था।
  • जनरल करिअप्पा को 28 अप्रैल 1986 को फील्ड मार्शल का रैंक प्रदान किया गया था
  • दूसरे विश्व युद्ध में बर्मा में जापानियों को शिकस्त देने के लिए उन्हें ऑर्डर ऑफ द ब्रिटिश एंपायर का प्रतिष्ठित तमगा भी दिया गया था
Indian Army Day 2
Indian Army Day 2
  • करिअप्पा साल 1953 में रिटायर हुए थे और 1993 में उनका निधन हो गया था
  • भारतीय थल सेना Indian Army की शुरुआत ब्रिटिश की ईस्ट इंडिया कंपनी की एक सैन्य टुकड़ी के रूप में हुई थी बाद में यह ब्रिटिश भारतीय सेना बने और फिर भारतीय थल सेना Indian Army बन गई
  • बीते साल 15 जनवरी 2019 को भारतीय थल सेना दिवस Indian Army Day के मौके पर परेड का नेतृत्व एक महिला अधिकारी ने किया था। जिसका नाम लेफ्टिनेंट भावना कस्तूरी है।
  • सेना दिवस Indian Army Day के मौके पर सेना प्रमुख को सलामी दी जाती है, लेकिन इस साल पहली बार सेना प्रमुख के स्थान पर सीडीएस जनरल बिपिन रावत को सलामी दी गई है।

कैफी आज़मी Kaifi Azmi के Birthday पर उनकी Secret Story

National Youth Day 2020 पर Swami Vivekananda के 25 Quotes हिन्दी में

 

👇 अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलें 👇

Share on facebook
Share on google
Share on twitter
Share on whatsapp

ये खबर आपको कैसी लगी? नीचे कॉमेंट बॉक्स में जाकर जरूर बताएं.

झांसी समाचार

ललितपुर समाचार