भारत को हिन्दू राष्ट्र

क्या भारत को हिन्दू राष्ट्र बनाने की तैयारी चल रही है?

» भारत हिन्दू राष्ट्र बना तो क्या होगा ? क्या मुसलमानों को पाकिस्तान जाना पड़ेगा या फिर युद्ध होगा ! नागरिकता बिल के जरिए आखिर क्या बटन चाहते है पीएम मोदी और अमित शाह?

नागरिकता बिल के जरिए क्या प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारत को हिंदू राष्ट्र बनाना चाहते हैं? या फिर इस बिल के जरिए वह रास्ता शुरू होता है, जो भारत को हिंदू राष्ट्र बनाने में मदद करेगा। क्या वास्तव में भारत हिंदू राष्ट्र बन सकता है? और यदि भारत हिंदू राष्ट्र बना तो भारत को क्या फायदा होगा? या फिर क्या इसके उलट भारत को नुकसान हो सकता है?

ऐसे तमाम सवाल इस बिल के पास होने की बात हर किसी के दिमाग में झूल रहे हैं, और जुड़े भी क्यों ना? क्योंकि इस बिल के आने के बाद भारत के कोने कोने में हिंसा और विरोध की खबरें जो सामने आई हैं? इस दौरान सरकार और निजी संपत्ति का काफी नुकसान हुआ है। वहीं दूसरी तरफ बहुत सारे लोग इसके समर्थन में भी खुलकर बोले हैं। हालांकि इसका विरोध ज्यादा देखा गया है।

आइए जानते हैं कि आखिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह इसके बाद क्या कर सकते हैं, और इसका आम जनमानस के अलावा क्या फर्क पड़ सकता है?

वैसे तो नागरिकता बिल हमारे पड़ोसी देश पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान के लोगों से संबंधित है। इसमें हिंदू, सिख और जैन धर्म के लोग भारत की नागरिकता पा सकते हैं।  इसमें उक्त तीनों देशों के मुस्लिम धर्म से संबंध रखने वाले लोग भारत की नागरिकता नहीं ले सकते। सरकार का मानना है कि इन देशों में हिंदुओं के अलावा अल्पसंख्यक धर्म के लोगों का उत्पीड़न किया जाता है, और इन लोगों की संख्या घट रही है। जबकि मुस्लिम लोगों की संख्या बढ़ रही है। 

सरकार इसलिए भी चिंतित है कि भारत में भी मुस्लिमों की संख्या में इजाफा हो रहा है। या का ही नहीं भारी इजाफा हो रहा है। जाहिर है एक तरफ जहां बांग्लादेश, पाकिस्तान और अफगानिस्तान में हिंदुओं के साथ बर्बरता हो रही है। जिससे उनकी संख्या लगातार घट रही है।  वहीं दूसरी तरफ भारत में मुसलमानों के लिए पूर्ण स्वतंत्रता है। जिसके चलते उनकी संख्या में इजाफा हो रहा है।  

इस बिल के जरिए सरकार भारत को न ही हिंदू राष्ट्र बनाना चाहती ह,  और ना ही सरकार ऐसा सोच सकती है। यदि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी या गृह मंत्री अमित शाह या फिर भारत सरकार ने भारत को हिंदू राष्ट्र बनाने की कोशिश की कि भारत को इसका बड़ा खामियाजा भुगतना पड़ सकता है. 

क्यों नहीं बन सकता भारत हिन्दू राष्ट्र?

भारत को हिंदू राष्ट्र ना बनने की एक नहीं बल्कि कई कारण है। पूरे विश्व में भारत एक धर्मनिरपेक्ष देश माना जाता है हेलो हां जी। यानी कि भारत में किसी धर्म विशेष को कोई तवज्जो नहीं दी जा सकती और यदि सरकार ने ऐसा करने का सोचा तो अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत की थू-थू हो जाएगी, और भारत को जो अन्य देशों से सपोर्ट मिलता है। वह भी बंद हो जाएगा आपने कभी सोचा है कि इनकी इतनी तेजी से आगे क्यों बढ़ रहे हैं यही कारण है कि सपोर्ट नहीं करते सभी के लिए एक समान संविधान और एक समान कानून लागू होते हैं। इसी रूप से आगे बढ़ रहा है उदाहरण के तौर पर देखें तो कई इस्लामिक देश है आगे नहीं बढ़ पा रहे हैं क्योंकि मैं सिर्फ धर्म विशेष को ही तवज्जो देते हैं।  यदि भारत हिंदू राष्ट्र बना अंतरराष्ट्रीय स्तर पर जो हमें हानि होगी उसकी भरपाई कोई नहीं कर सकता। 

तो फिर क्या होगा?

एक तरफ जहां भारत में वोट बैंक की राजनीति चल रही है। वहीं दूसरी तरफ सत्ता और विपक्ष के बीच भी जमकर तनातनी चल रही है। यदि भारत हिंदू राष्ट्र बना तो भारत में रहने वाले अन्य धर्म के लोग भी खुलकर इसका विरोध करेंगे और इससे अंदरूनी प्लेस भी बढ़ सकता है इसीलिए सरकार ऐसा कोई कदम नहीं उठाएगी उसे बाहर या अंदर किसी तरफ से भी नुकसान उठाना पड़े।

👇 अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलें 👇

Share on facebook
Share on google
Share on twitter
Share on whatsapp

ये खबर आपको कैसी लगी? नीचे कॉमेंट बॉक्स में जाकर जरूर बताएं.

झांसी समाचार

ललितपुर समाचार